कई बार असफल होने के बाद मान गयी थी हार, फिर चाचा से मिली IAS बनने की प्रेरणा, अंतिम प्रयास में मिली सफलता

Success Story of IAS Nupur Goel :

हमारे देश की सबसे बड़ी परिक्षा संघ लोक सेवा आयोग (UPSC ) की परिक्षा मानी जाती हैं इस परीक्षा को सबसे बड़ी परिक्षा इसलिए माना जाता हैं क्योंकि इस परीक्षा में जो अभ्यर्थी पास होता है वो सभी के लिए एक मिसाल बन जाता हैं ऐसे ही 2019 में ऑल इंडिया रैंक 11 लाने वाले नूपुर गोयल शामिल हैं।

आपको बता दें कि नूपुर गोयल पहले ही प्रयास में सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास कर ली और इंटरव्यू के लिए पहुंच गई थी परन्तु उसका चयन नहीं हो पाया था। बता दे कि नूपुर गोयल दिल्ली के नरेला की रहने वाली है। नूपुर गोयल के एरिया में लड़कियों के पढ़ने को ज्यादा महत्व नही दिया जाता हैं परंतु नूपुर गोयल ने सब की बात न मान कर पढ़ाई करने के लिए आगे बड़ी नुपुर गोयल ने अपने कालेज से इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी करने के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की है। और साथ ही बीटेक के इग्नू पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन से मास्टर डिग्री भी प्राप्त की है।

Pic Credit – Mobile.twitter.com

नुपुर गोयल को यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी करने के लिए उनके अंकल ने प्रेरणा दी थी। उनके अंकल ने उनको इसलिए कहा की क्योंकि उनको यूपीएससी में सफ़लता नही मिल पाई थी। उसके बाद उन्होंने नुपुर गोयल को इस परीक्षा की तैयारी करवाई और नूपुर गोयल ने भी अपने अंकल को निराश देखकर यूपीएससी सिविल सर्विसेज परीक्षा पास करने को ठानी और सफलता प्राप्त कर ली और अपने सपनों को पूरा कर दिखाया ।

आपको बता दें कि नूपुर गोयल ने यूपीएससी की सिविल परीक्षा 2014 में दी थी परन्तु उनको 2014 में इंटरव्यू में सफलता प्राप्त नहीं हुई थी। उसके बाद उन्होंने दूसरी बार एग्जाम दिया तो नूपुर गोयल का प्रीलिम्स में भी चयन नहीं हो पाया था। तीसरी बार भी इंटरव्यू तक तो पहुंच गई परन्तु सफलता प्राप्त नहीं हो पाई। चौथे प्रयास में भी उनका प्री एग्जाम भी किल्यर नही हो पाया।

नुपुर गोयल ने जब तक प्रयास किया जब तक उन्होंने सफ़लता हासिल न की उसके बाद उन्होंने एक इंटेलिजेंस ब्यूरो की एक नौकरी ज्वाइन कर ली। नौकरी के साथ साथ उन्होंने तैयारी भी की और 2019 में उनका सपना पूरा हो गया और आईएएस बन गए।

नूपुर गोयल ने बताया कि जो भी अभियर्थियों सिविल परीक्षा की तैयारी करते हैं उनको आखरी प्रयास तक हार नही मानना चाहिए। और तैयारी मे जुटे रहना चाहिए प्रीलिम्स के लिए मॉक टेस्ट बहुत ही जरूरी होता है और मेंस के लिए आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस करना चाहिए और साथ ही रोजाना अभ्यर्थियों को न्यूज पेपर भी पढ़ना चाहिए क्योंकि न्यूज़ पेपर पड़ने से करेंट अफेयर्स पर पकड़ बनी रहती हैं।


 

Leave a Comment