Operation Ganga : कितने भारतीय अब भी फसे हुए है युद्ध क्षेत्र में ! यूक्रेन ने बनाया है कई भारतीयों को बंधक ?

Operation Ganga :

रूस और यूक्रेन के मध्य चल रहे युद्ध के परिणाम यूक्रेन में फसे विदेशी लोगो को भी उठाना पड़ रहा है। हाल ही में एक भारतीय स्टूडेंट की हमले के दौरान मौत की खबर भी सामने आई थी। जिसके बाद से भारत ने अपने फसे हुए देशवासियों को निकालने की मुहिम तेज कर दी है।

जब पीएम मोदी ने पुतिन से फोन पर बात की थी, तब भी इस बात का जिक्र किया गया था की जिन भी बसों पर भारत का तिरंगा लगा हुआ है, रूसी सेना कई मौकों पर खुद ही उन्हें रास्ता दे रही है और बिना किसी रोक-टोक के बॉर्डर पार किया जा रहा है। रूसी राष्ट्रपति ने आश्वासन दिया था कि बसों पर भारत का तिरंगा होना ही सुरक्षा की गारंटी है।

Pic Credit – Hindustan Times

कितने लोगो को यूक्रेन से लाया गया और कितने फंसे हुए है !

ANI की नवीनतम रिपोर्ट्स के अनुसार ऑपरेशन गंगा के तहत IAF ने अब तक 2056 यात्रियों को वापस लाने के लिए 10 उड़ानें भरी हैं। हिंडन एयरबेस से कल उड़ान भरने वाले भारतीय वायुसेना के तीन सी-17 भारी परिवहन विमान आज सुबह हिंडन में वापस उतरे। इन उड़ानों ने रोमानिया, स्लोवाकिया और पोलैंड से 629 भारतीय नागरिकों को निकाला।

इसके अलावा बताया जा रहा है की यूक्रेन के युद्धग्रस्त शहर खार्कीव को छोड़ चुके करीब एक हजार भारतीय छात्र अब वहां से करीब 11 किलोमीटर दूर स्थित पेसोचिन शहर में फंसे हैं। सरकार अभी सही तरीके से यह नहीं बता पाई है कि 18 हजार भारतीयों की स्वदेश वापसी के बावजूद कितने लोग अभी यूक्रेन में हैं।

वहीं हाल ही में रूस के मीडिया आउटलेट स्पुतनिक ने एक सुधार जारी किया और कहा, “रूस ने यूक्रेन में नागरिकों के लिए मानवीय गलियारे खोलने के लिए 07:00* GMT से युद्धविराम की घोषणा की”

रूस का दावा यूक्रेन ने भारतीयों को बना रखा है बंधक :

रूस ने शुक्रवार को यह दावा किया है यूक्रेन के नागरिकों ने विभिन्न शहरों में 3,700 से अधिक भारतीय नागरिकों को जबरन बंधक बनाकर रखा है। वहीं रूस के राष्ट्रपति पुतिन का ये भी कहना है कि उसकी सेना विदेशी नागरिकों की शांतिपूर्ण निकासी के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस का प्रतिनिधित्व कर रहे वासिली नेबेंजिया ने कहा कि यूक्रेनी राष्ट्रवादियों द्वारा जबरन बंधक बनाए जा रहे विदेशी नागरिकों की संख्या चौंकाने वाली है। खारकीव में भारत के 3,189 नागरिक, वियतनाम के 2,700 नागरिक, चीन के 202 नागरिक इसमें शामिल हैं। उन्होंने दावा किया की संख्या इससे ज्यादा भी हो सकती है।

वही यूक्रेन के प्रतिनिधि ने रूसी प्रतिनिधि का जिक्र करते हुए कहा, “मैं उन्हें और हम सभी को याद दिला दूं कि शैतान भी एक देवदूत था, एक देवदूत जिसने भगवान के खिलाफ विद्रोह किया .. हम किसी भी विदेशी नागरिक को सुरक्षी पहुंचाने के लिए आगे है आप झूठ फैलाना बंद करो।


 

Leave a Comment