एक तरफ माँ की अर्थी उठी तो दूसरी तरफ बेटे का सजा था सहरा, दिल पे पत्थर रख के ले जानी पड़ी बारात

Mother dies during son’s marriage :

वो कहते है ना होनी को कोई नहीं टाल सकता, ऐसी ही एक बेहद दुखद घटना सामने आई है। जिसे सुनकर आपका दिल भी पसीज जायेगा बिहार के औरंगाबाद जिले में ये घटना हुई है। जिसमे बेटे को अपनी माँ के मौत के बाद भी घर से बारात ले जानी पड़ी दुल्हन को लाने के लिए।

आपको बता दे की औरंगाबाद-पटना एनएच 139 पर मस्तलीचक मोड़ के समीप बाइक दुर्घटना में 70 वर्षीय महिला की मौत हो गयी। घटना शनिवार की है। मृतका की पहचान मस्तलीचक गांव के स्व चंद्रदीप सिंह की पत्नी बुधनी देवी के रूप में हुई है।

Pic Credit – News Trend

बताया गया कि बुधनी देवी के बेटे की बारात निकलने वाली थी लेकिन ठीक पहले दूल्हे की मां इस हादसे का शिकार हो गयी। वहीं दूल्हन के जीजा की भी मौत इसी दिन करंट लगने से हो गयी जिसके बाद दोनों पक्षों में मातम का माहौल छा गया।

पैसे निकलवाने जा रही थी महिला :

शादी के दौरान खर्च करने के लिए कुछ पैसे की जरूरत पर बुधनी देवी बैंक से पांच हजार रुपए निकालने गई। पैसा निकाल कर अपने दामाद के साथ स्पलेंडर बाइक से जैसे ही वह मस्तली चक मोड़ पर पहुंची। वैसे ही अज्ञात वाहन ने उन्हें टक्कर मार दी और वह बाइक से गिर गई। हादसे में वृद्ध महिला बुरी तरह जख्मी हो गई। इलाज के लिए उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया और इलाज के दौरान शनिवार को बुधनी देवी की मौत हो गई।

बारात के जाने की हो चुकी थी पूरी तैयारी
मृतका के घर से बारात निकलने की रस्म अदायगी चल रही थी। लेकिन इससे पहले ही मां की मौत की खबर मिल गई। इसके बाद घर में कोहराम मच गया।

PIC Credit – Danik Jagran

मृतका बुधनी देवी के सबसे छोटे बेटे रणधीर कुमार की बारात मदनपुर थाना क्षेत्र के डोमन बिगहा जाना था। इसकी तैयारी चल रही थी। 16 फरवरी को रणधीर का तिलक चढ़ा था। आज बारात जानी है। इससे पहले यह हादसा हो गया।

माँ का सपना था बेटे की शादी करना :

बुधनी देवी की मौत के बाद उसका दुल्हा बेटा रणधीर खूब रोया। क्योंकि उसकी मां बहुत प्यार से उसकी शादी कर रही थी। शादी तय करने से लेकर तिलक चढ़ाने तक में उसकी मां ने अपनी क्षमता लगा दी। बेटे की बारात सजाने की भी उसने पूरी तैयारी की थी, लेकिन बारात निकाल नहीं पायी।

अपने बेटे को आशीर्वाद नहीं दे पायी। उसकी माँ का सपना था की वह अपने बेटे की शादी करवा सके।बारात घर से निकलती उससे पहले ही वह दुनिया छोड़कर चल बसी।


 

Leave a Comment