26 साल के अपाहिज बेटे को पीठ पर बिठा कर रही है दुनिया की यात्रा, जानिए मां और बेटे के की भावुक कहानी

Mother carrying son on back

आस्ट्रेलिया के पर्थ के रहने वाला एक 26 साल का जिमी अपनी मां की आंखों से पूरी दुनिया को देख रहा है आपको बता दें कि जिमी ने अपनी मां की आंखों से बहुत से दृश्य देख लिए हैं और अब भी जिमी की मां उसको दुनिया घूमा रही है जिमी ने पूरी दुनिया को घूम लिया है परंतु अपनी मां की आंखों से ही देख सकता है क्योंकि जिमी देख नही सकता है जिमी को चलने के लिए अपनी मां के कंधों की जरूरत पड़ती हैं

26 साल का जिमी बचपन से ही नही देख सकता है सोचने की बात यह है कि जिमी को मां निकी अंतरम अपनी पीठ पर लादकर अपने बेटे को वर्ल्ड टूर करवा रही है अपने 26 साल के बेटे जिमी को लेकर निकी अंतरम बहुत से देशों में घूम चुकी हैं और जिमी भी अपनी मां की पीठ पर सवार होकर बहुत अच्छे से दुनिया देख रहा है

Mother carrying son on back
Credit :- hindi.oneindia.com

जिमी को जन्म देने वाली मां निकी को पता चला था कि उनका बेटा देख नही सकता है तभी से ही उन्होंने अपने आप से ही वादा किया था कि वो अपने बेटे को अपनी आंखों से पूरी दुनिया को दिखाएगी और अब मां अपने वादे को पूरा करने के लिए वर्ल्ड टूर पर निकल चुकी है |

बता दे की मां निकी 43 साल की हो चुकी है और जिमी 26 साल का है व मां को पता है कि अब वो अपने बेटे को अपनी पीठ पर लादकर ज्यादा दिनों तक यात्रा नहीं करवा सकती हैं यानी उनको अब अपने बेटे के प्रति थोड़ी चिंता होने लग रही हैं परंतु वो घबराई हुई नही है बल्कि आगे की यात्रा करने के बारे में सोचती हैं बचपन से ही जिमी देख नही सकते हैं इसके साथ ही बहुत सी मानसिक और शारीरिक परेशानियां के भी शिकार हैं जिमी के सभी काम उनकी मां निकी ही करते हैं जिमी की 24 घंटे देखभाल करना बहुत जरूरी है।

Mother carrying son on back
Credit :- hindi.oneindia.com

मां और बेटे जहां भी घूमने जाते हैं उसे इंस्टाग्राम पर अपने फॉलोवर्स के साथ शेयर भी करते हैं उनके इंस्ट्राग्राम पर बहुत से लोग जुड़े हुए हैं जहां से मां निकी अपनी कहानी को लोगों तक शेयर करती हैं मां निकी ने बताया कि उनके बेटे जिमी के पास व्हीलचेयर है परन्तु मां निकी अपने बेटे को व्हीलचेयर पर नही अपने पीठ पर लादकर घूमती हैं

मां निकी बताती हैं कि उनकी उम्र बहुत ज्यादा होती जा रही हैं क्योंकि अब वो ज्यादा दिन अपने बेटे को पीठ पर लादकर नही चल सकती हैं और यह भी कहा कि वो अब अपने बेटे को लंबी यात्रा नहीं करवा सकती हैं क्योंकि अब वो बहुत थक जाती है आस्ट्रेलिया में बहुत सी जगहों पर यात्रा कर चुके हैं और अब जिमी और उसकी मां कनाडा जाने का प्लान बना रहे हैं मां निकी ने बताया कि उन्हें अब बहुत से लोग पहचानने लग गई हैं उन्हे बहुत सी जगहों पर लोगों का बहुत प्यार मिलता है

Mother carrying son on back
Credit :- hindi.oneindia.com

मां निकी बताती हैं कि जिमी के जन्म के 2 महीने के बाद पता चला कि जिमी देख नही सकता है उसके बाद डॉक्टरों ने जिमी को नहीं देखने पाने को पुष्टि कर दी थी।

उसके बाद जब जिमी 6 महीने का हुआ तो उनकी मां को महसूस हुआ कि जिमी को मिर्गी की बिमारी भी है मां निकी के मुताबिक़ पता चला कि बहुत इलाज करने के बाद अब जिमी को मिर्गी को बीमारी नही है जिमी की मां निकी का कहना है कि उनका बेटा उनके लिए जीने की एक शक्ति है और वो अपने बेटे को हमेशा खुश देखना चाहती हैं उनको मां का कहना है कि जिमी देख नही सकता है परन्तु वो जैसा सोचता है वो ठीक वैसे ही है।

Leave a Comment