16 वर्षों से हर शुक्रवार के दिन दुल्हन बनती है यह लड़की.. जानिए आखिर क्या है वजह!!

क्या आप सोच सकते हैं कि किसी को दुलहन बनने का इतना शौक हो कि वह हर हफ्ते दुल्हन के जोड़े में तैयार हो जाए। पाकिस्तान की यह 42 साल की महिला ऐसी ही है।इन्हे दुल्हन बनने का इतना शौक है कि वे हर शुक्रवार को दुल्हन के जोड़े में तैयार हो जाती है। पाकिस्तान के लाहौर में रहने वाली इस महिला का नाम हीरा जीशान है। हीरा बताती है कि वे पिछले 16 वर्ष से इसी तरह सोलह सिंगार करके हर शुक्रवार को दुल्हन की तरह तैयार होती है। जब उनसे इसकी वजह पूछी गई तो उन्होंने एक बेहद ही दुख भरी कहानी सुनाइ।

हीरा जीशान ने बताया कि 16 वर्ष पहले उनकी मां बहुत ज्यादा बीमार हो गई थी ।उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाना पड़ा। मां की हालत बिगड़ती जा रही थी। मां को खून की जरूरत थी। अस्पताल में एक शख्स ने उन्हें खून डोनेट किया फिर भी उनकी हालत में कुछ खास सुधार नहीं था। हीरा की मां की अंतिम इच्छा थी कि वे उसका निकाह देख पाए। हीरा की मां ने उसकी शादी उसी शख्स से तय कर दी जिस शख्स ने उन्हें खून डोनेट किया था। हीरा की मां की हालत देख वह भी शादी के लिए मान गया एवं अपनी मां की खुशी के लिए हीरा ने भी इस निकाह के लिए हामी भर दी। हीरा की शादी उसी अस्पताल में की गई। हीरा की विदाई भी उसी अस्पताल से एक रिक्शा में हुई।

कुछ समय बाद हीरा की मां की मौत हो गई। हीरा अपनी शादी में कुछ श्रृंगार नहीं कर पाई थी ।उनकी मां की मौत का उन्हें ऐसा सदमा लगा कि वह डिप्रेशन में चली गई ।शादी के बाद वे खुद भी मां बनी परंतु उनके दो बच्चो की मौत पैदा होते ही हो गई ।इतनी घटनाओं की वजह से उनके डिप्रेशन की हालत बढ़ती चली गई ।यही वजह है कि डिप्रेशन से बाहर आने के लिए हीरा ने हर शुक्रवार को दुल्हन की तरह सजना शुरू किया ।ऐसा करने से वे खुश रहने लगी और यह उन्हें बहुत पसंद भी आने लग।

वे बताती हैं कि दुल्हन बनकर उन्हें बेहद खुशी मिलती है इसीलिए वे पिछले 16 वर्षों से हर शुक्रवार को दुल्हन के जोड़े में तैयार होती है। इसी कारण उनका डिप्रेशन भी दूर चला गया है ।उनके पति भी इस बात में उनके साथ ही हैं। हीरा के 4 बच्चे हैं जिनके साथ वे पाकिस्तान में रहती है और उनके पति लंदन में रहते हैं।

Leave a Comment