बेटे के अंतिम संस्कार को हो चले 15 साल, तब से शमशान घाट ही रहती है उसकी माँ, कहती है की…

Mother Remains At The Cremation Ground :

लोग कहते है एक बेटे को उसकी माँ से ज्यादा प्यार कोई नहीं कर सकता है। माँ अपने बेटे के लिए किसी भी हद्द तक जा सकती है। और इस बात के कई उदाहरण भी आप सबने देखे या सुने होंगे। एक बेटे के लिए जितना उसकी माँ कर सकती है उतना शयद कोई और नहीं कर सकता है।

ऐसी ही एक घटना ने सालों पहले जन्म लिया था जो हाल ही में काफी वायरल हो रही है। आपकी जानकारी के लिए बता दे की ये घटना राजस्थान के सीकर जिले से है। जहां एक माँ अपने बेटे की अकाल मौत के बाद खुद को उससे अलग नहीं कर पाई।

Mother Remains At The Cremation Ground
Pic Credit – Positive Bharat.in

वहा आस पास रहने वाले लोगो का कहना है कि 15 साल पहले उस महिला के इकलौते बेटे की एक एक्सीडेंट में मौत हो गयी थी जिसके बाद उसका अंतिम संस्कार उसकी माँ ने किया। और उसके बाद से ही वो शमशान घाट ही रहने लगी कभी वहा से वापस अपने घर नहीं लौटी।

आने जाने वालो की किया करती है मदत :

जब भी कोई लोग वहा किसी के अंतिम संस्कार में पहुँचते है तो उस महिला को वही पाते है। वो महिला वहां आने वाले लोगो को पानी पिलाती है। साथ ही दाह संस्कार के लिए इधर उधर से लकडिया उठाने में मदत करती है। और अपने दिन रात उसी श्मशान घाट में व्यतीत किया करती है।

महिला का इकलौता सहारा था उसका बेटा :

उस महिला का कहना है कि जब उसके बेटे की उम्र 22 साल थी तो उसकी एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी। जिसके बाद उसके बेटे को अस्पताल ले जाया गया मगर काफी खून बह जाने की वजह से उसके बेटे की मौत हो गयी। महिला बोलती है की उस बेटे के अलावा उसका दुनिया में कोई नहीं है उसके जाने के बाद मैं काफी अकेली हो गई हूं।

Pic Credit – Newstrend

महिला आगे बताती है कि उसके बेटे की आत्मा की शांति के लिए वह उसकी अस्थियों को लेकर हरिद्वार भी गई जहां उसने अस्थियों का विसर्जन किया। उसके बाद वो वहां से सीधे शमशान घाट लौट आयी और वही रुक गयी लोगो के खूब कहने के बाद भी मुझ से वहां से गया ना गया। आखिर मैं अपने बेटे को छोड़कर जाती भी तो कहा।


 

Leave a Comment