हजारों साल तक जिंदा रह सकेगा इंसान,हावर्ड के प्रोफेसर का दावा

इंसान हमेशा चाहता है कि वह एक लंबा जीवन जिए और इसके लिए कई प्रकार के उपाय को भी अपनाता है लेकिन इस बार हावर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर यह दावा करते हैं कि 2 साल के अंदर अंदर यह संभव हो सकता है।

बहुत जल्‍द हजारों साल तक जीवित रहेगा इंसान, इस वैज्ञानिक ने किया दावा

बता दें कि हावर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डेविड सिंसलैर के अनुसार चूहों पर किया गया टेस्ट यह साबित करता है कि दिमाग और अन्य अंगों में कुछ रिसर्च एवं परिवर्तन के द्वारा युवावस्था और वृद्धावस्था में अंतर किया जा सकता है।

हावर्ड वैज्ञानिक का रिसर्च कामयाब, बहुत जल्द हजारों साल तक इंसानों का जिंदा  रहना होगा संभव | Harvard professor of genetics David Sinclair claims humans  could live for thousands ...

प्रोफेशर ने यह भी कहा है कि एक भ्रूण जिन्स होता है, जिसे व्यस्क पशुओं के अंदर डालने पर उम्र से जुड़े ऊतकों का निर्माण फिर से किया जा सकता है। लगभग 4 से 8 सप्ताह के अंदर यह पूरी तरह से निर्मित हो जाता है।

हावर्ड वैज्ञानिक का रिसर्च कामयाब, बहुत जल्द हजारों साल तक इंसानों का जिंदा  रहना होगा संभव | Harvard professor of genetics David Sinclair claims humans  could live for thousands ...

उन्होंने बताया कि इस प्रयोग के लिए आप एक ऐसे चूहे का चयन करें जो उम्र के अधिक होने के कारण देख नहीं सकते हो और उसके ब्रेन की तरफ का न्यूरॉन भी काम नहीं कर रहा हो। निष्कर्ष के अनुसार रिपोर्ट के मुताबिक यदि इस न्यूरॉन को फिर से बनाया जाए तो वे चूहे वापस से देखने लग जाएंगे और युवा हो जाएंगे।

Humans Lifespan 1000 Years: Harvard Professor Of Genetics David Sinclair  Says Humans Could Live For Thousands Of Years - हावर्ड के प्रफेसर का दावा,  बहुत जल्‍द हजारों साल तक जिंदा रह सकेगा

52 साल के इस प्रोफेसर ने इस बात की सटीक पुष्टि कर दी है कि एक ऐसी व्यवस्था का आविष्कार हो चुका है जिसके तहत कोशिकाओं एवं उत्तकों को युवावस्था की ओर लाया जा सकता है। उनका कहना है कि अब वे लोग जिन्स का इस्तेमाल कर उन चूहों को वापस युवावस्था में लाने जा रहे हैं जिन्हें उन्होंने समय से पहले ही बूढ़ा कर दिया था।

अब हजारों साल जियेगा इंसान! वैज्ञानिक का दावा- लैब में तैयार किया जाएगा  अमरता का इंजेक्शन - Mohalla Media Live

प्रोफेसर ने यह भी कहा कि वह आशावादी हैं और वह 2 साल से कम समय में ही रिसर्च के अंतिम रिजल्ट तक पहुंच जाएंगे। उन्होंने यह भी कहा है कि आज के बच्चों को 100 साल तक जीवित रहने के लक्ष्य को निर्धारित करना चाहिए क्योंकि व्यक्ति के अधिकतम जीवन की कोई सीमा नहीं है।

Leave a Comment