सोनू सूद से लेकर के स्मृति ईरानी तक कि नींद उड़ा करके आराम से घर में सोता मिला यह शख्स

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सोनू सूद महामारी के इस दौर में लोगों के लिए मसीहा बनकर के सामने आए हैं। बता दें कि सोनू सूद ने काफी सारे लोगों की मदद की है। पिछले 2 साल से लोगों के लिए घर , राशन, दवाइयां एवं काफी सारी जरूरी चीजों की व्यवस्था करवा रहे हैं।

Bombay HC asks Maha govt to find how Sonu Sood, Zeeshan Siddiqui procured  Remdesivir - Movies News

लेकिन हाल ही में एक ऐसा वाक्य सामने आया है, जहां एक व्यक्ति ने सोनू सूद से लेकर की स्मृति ईरानी तक मदद की गुहार लगा दी। और खुद आराम से अपने घर में सोता हुआ मिला।

सोनू सूद को ट्वीट कर स्मृति ईरानी तक की नींद उड़ाने वाला युवक घर में इत्मीनान से सोता मिला, जानिये पूरा मामला

दोस्तों मैं आपको बता दें कि इस व्यक्ति ने अपने नाना के लिए सोनू सूद से सहायता मांगी थी। इस व्यक्ति ने अपने नाना के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की मदद मांगी थी। इसने सोनू सूद से लेकर के स्मृति ईरानी तक से ट्विटर के जरिए गुहार लगाई थी। और सब की नींद उड़ा कर के अमेठी का यह युवक अपने घर में आराम से सोता हुआ पाया गया। जब इस युवक के घर में पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे तो पता चला किस व्यक्ति ने की अफवाह फैलाने के लिए सोनू सूद को ट्वीट किया था। इस व्यक्ति के ऊपर महामारी अधिनियम के तहत शिकायत दर्ज कर ली गई है।

सोनू सूद से ऑक्सीजन की मदद मांगने वाला निकला फ्राड

आपको बता दें कि अमेठी के रहने वाले शशांक यादव ने आधी रात में सोनू सूद को ट्विटर पर ट्वीट किया कि उन्हें अपने नाना के लिए ऑक्सीजन चाहिए। यह मामला अमेठी का था और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र से जुड़ा था इसलिए कुछ ही समय में शशांक द्वारा किया गया यह ट्वीट स्मृति ईरानी तक भी पहुच गया। लोगों ने स्मृति ईरानी को में ट्वीट में टैग करना शुरू कर दिया। स्मृति ईरानी ने खुद इस मामले को संज्ञान में लिया और ट्वीट करके जानकारी दी कि शाम से फोन किए जाने पर भी इस व्यक्ति से संपर्क नहीं हो पा रहा है। इतने समय तक जिला प्रशासन एवं पुलिस भी इस मामले में सक्रिय हो चुकी थी।

महामारी अधिनियम की धाराओं में दर्ज क‍िया गया केस

शशांक फोन नंबर बंद होने की वजह से उससे संपर्क नहीं हो पा रहा था। इसीलिए प्रशासनिक अधिकारियों ने अनुमान लगाया कि शायद मुसीबत में होने के कारण शशांक का नंबर बंद है । ऐसे में उनकी आखिरी लोकेशन का पता लगा करके उनको खोजा जाने लगा ।तलाश करते हुए अधिकारी शशांक के घर पहुंचे। जब यह अधिकारी शशांक के घर पहुंचे तो वह अपने घर में सोते हुए पाए गए ।इसके बाद से शशांक से पूछताछ की गई जिसमें यह मालूम हुआ कि उनके दूर के रिश्ते में लगने वाले 88 वर्षीय उनके नाना काफी बीमार थे। और इसी बीमारी के चलते उनका निधन हो गया । लेकिन महामारी से संक्रमित नहीं थे और ना ही उन्हें ऑक्सीजन की आवश्यकता थी।

Sonu Sood on why he gave explanation to Odisha DM: 'This is no occasion for  one-upmanship' | Entertainment News,The Indian Express

शशांक ने यह कबूल किया कि उन्होंने केवल अफवाह फैलाने के मकसद से ट्वीट किया था । इस मामले में शशांक को पुलिस ने महामारी अधिनियम के तहत हिरासत में ले लिया था । लेकिन कुछ ही समय बाद इन्हें आगे से ऐसी हरकत ना करने की चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।

Leave a Comment