मृत्यु के एक घंटे बाद तक होती है ये 7 बातें

दुनिया में जो भी आया है वह एक दिन जाएगा जरूर। जब किसी भी मनुष्य की मृत्यु होती है तो उसकी आत्मा शरीर का त्याग कर देती है। लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं जो व्यक्ति के मर जाने के बाद 1 घंटे तक वैसी ही होती रहती है। हमारे शरीर की प्राण शक्ति हमें जीवित रखती है। और प्राण शक्ति जब शरीर के बाहर निकल जाती है तो हमारी मृत्यु हो जाती है । मृत्यु के बाद आत्मा के साथ कुछ ऐसी चीजें होती है जो काफी दुखदाई होती है।

1- आत्मा की अचेत अवस्था

दोस्तों क्या आपको पता है कि मृत्यु के बाद आत्मा लगभग 1 घंटे तक अचेत अवस्था में ही रहती है। यह सुनने में अजीब जरूर लग सकता है लेकिन यह सत्य है।आत्मा को लगता है कि वह बहुत थका हुआ मनुष्य है।और गहरी नींद में सो रहा है ।लेकिन जब उसे होश आता है तो अचानक से हड़बड़ा करके उठ जाती है ।

2- समान व्यवहार

दोस्तों क्या आप इस बात को जानते हैं कि मनुष्य की मृत्यु के बाद उसकी आत्मा वैसा ही व्यवहार करती है जैसा वह मनुष्य जीवित समय में करता होता है।

3 – बेचैनी एवं छटपटाहट

जब मनुष्य की मृत्यु होती है तो उसकी आत्मा बेचैन होकर के इधर उधर भागती है। अपने संबंधियों को पुकारती है लेकिन उसकी आवाज उस वक्त कोई भी नहीं सुन पाता है। क्योंकि वह इस भौतिक जगत को छोड़ चुका होता है। इस वक्त आत्मा को बहुत अधिक पीड़ा होती है।

4- संपर्क का प्रयास

मृत्यु के बाद आत्मा अपने संबंधियों से संपर्क करने की कोशिश करती है। लेकिन वह सफल नहीं हो पाती है ।क्योंकि आत्मा की आवाज व्यक्ति नहीं सुन सकता है।

5- प्रवेश का प्रयास

मृत्यु के बाद मनुष्य की आत्मा को ऐसा लगता है कि वह शरीर में वापस से प्रवेश पा सकती है ।और वह इसके लिए काफी प्रयास भी करती है । लेकिन वह ऐसा कर नहीं सकती है ।फिर धीरे-धीरे वह उस बात को अपना लेती है किसकी मृत्यु हो चुकी है ।और मृत्युलोक से मुक्त हो चुकी है।उसका विदा का समय आ गया है। तब उसके मोह का बंधन कमजोर हो जाता है।

6-आत्मा होती है दुखी

किसी भी मनुष्य की शरीर के नजदीक ही रहती है। जब आत्मा शरीर के रोते बिलखते परिजनों को देखती है तो काफी दुखी होती है। लेकिन वह भी करने में समर्थवान नहीं होती है ।तब यमदूत आत्मा से कहते हैं कि चलो अब चलने का समय हो गया ।और उसे यमपथ पर ले करके चले जाते हैं।

7- कर्म आधार पर जीवन

7 Mysterious Thing About Atma | आत्मा के बारे 7 बातें, जानकर रह जाएंगे  हैरान - Photo | नवभारत टाइम्स

आत्मा का पुनर्जन्म जन्म होगा या नहीं होगा यह केवल उसके कर्मों पर ही आधारित होता है। कुछ समय बाद आत्मा मृत्युलोक की सीमा को पार करके अनंत अंधकार में चली जाती है। जहां उसके कर्मों के आधार पर उसके फल एवं सजा का निर्धारण किया जाता है।

Leave a Comment