महामारी से हुआ है व्यक्ति का देहांत तो उसके पासपोर्ट, आधार,पैन कार्ड और वोटर आईडी का क्या करें?जाने विशेषज्ञ की राय

यदि आप भारत में रह रहे हैं आपको यह मालूम होगा कि आधार कार्ड ,वोटर आईडी कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट और ड्राइविंग लाइसेंस को सरकारी पहचान पत्र के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके बाद उसके इन पहचान पत्र का क्या होता है ?

Making Voter Id, Aadhar and Pan card has become much easier–Know how |  Economy News | Zee News

मृतक के कानूनी उत्तराधिकारी को या नहीं मालूम होता है कि मृतक के इन आधिकारिक दस्तावेजों एवं प्रमाण पत्रों के साथ क्या सही प्रक्रिया करनी चाहिए ।और इन्हें कब तक अपने पास रखना चाहिए। लोगों को इस बात की जानकारी भी नहीं है कि क्या आप यह दस्तावेज जारी करने वाली संस्थानों के पास वापस कर सकते हैं ? आज हम आपको ऐसी जानकारी साझा करने वाले हैं कि विशेषज्ञों द्वारा बताई गई है। आइए जानते हैं कि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाने के बाद उसके इन सरकारी प्रमाण पत्रों के साथ क्या किया जाना चाहिए।

1- आधार कार्ड

How to get aadhar if Card is lost and Mobile Number Not Registered - खो गया आधार  कार्ड और मोबाइल नंबर भी रजिस्टर्ड नहीं तो दूसरा कैसे प्राप्त करें

आधार कार्ड पर दर्ज नंबर आधार नंबर के रूप में जाना जाता है। यह किसी व्यक्ति के पहचान और प्रमाण के तौर पर उपयोग में लिया जाता है। यह काफी चीजों में उपयोग होता है। जैसे एलपीजी सब्सिडी, छात्रों के लिए छात्रवृत्ति ईपीएफ खाते, आदि। आधार संख्या का महत्वपूर्ण उपयोग है आधार संख्या किसी भी व्यक्ति की विशिष्ट पहचान संख्या होती है। इसीलिए उस व्यक्ति के कानूनी उत्तराधिकारी को इस बात का विशेष ख्याल रखना चाहिए कि इसका गलत उपयोग ना हो। अभी तक व्यक्ति के आधार कार्ड को रद्द या सरेंडर करने का प्रोसीजर नहीं है। आधार को अपडेट करके उसमें मृतक के बारे में सूचनाएं अपडेट करने की प्रक्रिया अभी तक आई है।

2- वोटर आईडी कार्ड

How To Correct Personal Details In Voter Id Card Online - वोटर कार्ड में  आपसे भी हो गई है गलती, तो घर बैठे ऐसे करें सुधार - Amar Ujala Hindi News  Live

निर्वाचक रजिस्ट्रेशन नियम 1960 के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके वोटर आईडी कार्ड को कैंसिल करने का प्रावधान है । इसके लिए मृतक व्यक्ति के कानूनी उत्तराधिकारी को स्थानीय चुनाव कार्यालय में जाकर के चुनावी नियमों के तहत फॉर्म 7 भरना होगा। इस फॉर्म के जमा करने के साथ प्रक्रिया शुरू हो जाती है। आपको बता दें कि इस फॉर्म के साथ मृत्यु प्रमाण पत्र लगाना भी आवश्यक होता है ।

3- पैन कार्ड

Lost PAN Card Download e-Pan in 5 minutes from the new website of Income  Tax Department know the complete process - खो गया है पैन कार्ड? इनकम टैक्स  डिपार्टमेंट की नई वेबसाइट

पैन कार्ड का उपयोग बैंक खाते से जुड़े काम, आईटीआर एवं आर्थिक लेन देन के लिए किया जाता है। इसका उपयोग मृतक के आईटीआर दाखिल करने के रिकार्ड के तौर पर किया जाता है।जब तक उस व्यक्ति के सभी बैंक खाते बंद नहीं हो जाते हैं। और आयकर विभाग में जब तक आईटीआर दाखिल नहीं हो जाता है । तब तक भी पैन कार्ड का रखा जाना जरूरी होता है। जब आपके आयकर विभाग से जुड़े सभी कार्य पूरे हो जाए तो मृतक के कानूनी उत्तराधिकारी को चाहिए कि वह आयकर विभाग में संपर्क करके वहां पर मृतक का पैन कार्ड सरेंडर कर दें ।

4- पासपोर्ट

How to Apply for a Passport Online in India : पासपोर्ट करना है अप्लाई? चंद  स्टेप्स में घर बैठे हो जाएगा काम, फॉलो करें स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस -  Navbharat Times

विशेषज्ञ का कहना है कि किसी भी व्यक्ति की मृत्यु पर उसके पासपोर्ट को रद्द या सरेंडर करने की प्रक्रिया का कोई प्रावधान अभी तक नहीं है। इसकी जानकारी अधिकारियों को देने की भी कोई प्रक्रिया अभी तक नहीं बनी है। हालांकि यदि किसी की भी पासपोर्ट की समय सीमा खत्म हो जाती है तो यह डिफॉल्टर माना जाता है अमान्य माना जाता है। यदि कानूनी उत्तराधिकारी उसका पासपोर्ट अपने पास रखता है तो या एक बुद्धिमत्ता का निर्णय होगा। क्योंकि कभी विवाद में आने वाली स्थितियों में आप इसे मृतक के प्रमाण पत्र के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

What to do with Aadhaar, PAN, Voter ID, Passport after death of holder?  Find out | english.lokmat.com

दोस्तों इस बात का ध्यान अवश्य रखें की आधार कार्ड एवं पासपोर्ट ऐसे जो भी प्रमाण पत्र या दस्तावेज हैं जिन्हें आप रद्द या सरेंडर नहीं कर सकते हैं ।उन्हें नष्ट ना करें बल्कि उन्हें मृतक के मृत्यु प्रमाण पत्र के साथ रखें ताकि है आगे सुरक्षित रहे।

Leave a Comment