“तुम कहीं की कलेक्टर हो” दिल पर लग गई यह एक बात,डॉक्टरी छोड़ करके बन गईं IAS

दोस्तों आज हम आपको डॉ प्रियंका शुक्ला प्रेरणादायक कहानी बताने वाले हैं। इनके जीवन में एक मोड़ ऐसा भी आया जब यह अपना डॉक्टर का प्रोफेशन छोड़कर के आईएएस अधिकारी बन गई। इनके जीवन की कहानी सभी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है। आइये जानते हैं कि ऐसा क्या हुआ कि प्रियंका शुक्ला डॉक्टर से आईएएस अफसर बन गई।

एमबीबीएस के बाद घटि घटना

Raipur: Interview Of Jashpur Collecter Priyanka Shukla - टारगेट को अचीव  करने में पैरेंट्स की भूमिका है अहम - प्रियंका शुक्ला | Patrika News

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ की रहने वाली प्रियंका शुक्ला ने लखनऊ के केजीएमयू से एमबीबीएस की डिग्री प्राप्त की थी। उन्होंने साल 2006 में एमबीबीएस पूरा किया था। और इसके बाद यह साल 2009 कि IAS कैडर रही है। बता दें कि मेडिकल डिग्री हासिल करने के बाद प्रियंका शुक्ला ने लखनऊ में अपनी प्रैक्टिस शुरू कर दी थी। अपनी मेडिकल प्रैक्टिस के दौरान प्रियंका को दूर के इलाकों में गरीबों का इलाज करने के लिए जाना पड़ता था।

नयी हेल्थ डायरेक्टर बनी डॉ. प्रियंका शुक्ला

एक रोज इसी तरह झुग्गी झोपड़ी में गरीब का इलाज करने के लिए प्रियंका गई थी और यहीं से उनका जीवन पूरी तरह बदल गया। इस दौरान हुआ कुछ ऐसा कि प्रियंका ने एक महिला को गंदा पानी पीते हुए देखा और उन्होंने उसे गंदा पानी पीने के लिए मना किया। प्रियंका के मना करने पर उस औरत ने जवाब दिया वह शब्द प्रियंका को तीर की तरह लगे।

तुम कहीं की कलेक्टर हो?" महिला की बात सुन छोड़ी डॉक्टरी और बन गई IAS ऑफिसर -

आपको बता दें कि उन्हें गंदा पानी पीने के लिए मना किया तो औरत ने जवाब में कहा कि ,”तुम कहीं की कलेक्टर नहीं हो जो हमें सुझाव दे रही हो, जाओ और जाकर अपना काम करो ।”

Inspiring Story: जब एक महिला ने कहा, 'तुम कहीं की कलेक्टर हो' डॉक्टरी छोड़  IAS बनी प्रियंका - inspiring and success story of ias priyanka shukla-mobile

प्रियंका को यह बात लग गई। और उन्होंने उसी समय यह निश्चय कर लिया की वह कलेक्टर बन कर रहेंगी। और सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास करके समाज की समस्याओं को दूर करेंगी। उन समस्याओं को खत्म करने का प्रयास करेंगीं जिन्हें खत्म करने में आज वह सक्षम नहीं है।

AKHBARINDIA: Latest Hindi Live News, Online Khabar

इसके बाद प्रियंका आईएएस बनने की ठानी और उन्होंने मेहनत के साथ तैयारी करना शुरू कर दिया। लेकिन कहा जाता है सफलता एक बार में नहीं मिलती है। प्रियंका पहली कोशिश में असफल रहीं लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी । साल 2009 में प्रियंका को सफलता हासिल हुई । आईएएस प्रियंका शुक्ला सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहती हैं । वे अपने टि्वटर अकाउंट के माध्यम से भी लोगों में एवं समाज में जागरूकता फैलाने का कार्य कर रही है। सभी लोग उनके कार्य एवं उनकी सराहना करते हैं।

प्रतिभा से पूर्ण प्रियंका

इस महिला आईएएस से इतना इंस्पायर क्यों रहते हैं स्कूल के बच्चे!

आपको बता दें कि प्रियंका एक डॉक्टर होने के साथ-साथ एक आईएएस अफसर भी है। इसके अलावा भी वे काफी चीजों में रुचि रखती है। प्रियंका को कंटेंपरेरी डांस के साथ ही कविताएं लिखने का शौक है। वे बताती है कि जब भी समय मिलता है वह कविताएं लिखती है। और हमेशा ही अपने पास एक डायरी रखती हैं । स्कूल के समय से प्रियंका को संगीत में भी काफी दिलचस्पी रही है ।

राष्ट्रपति द्वारा किया गया सम्मानित

MBBS प्रियंका शुक्ला कैसे बनी IAS Officer, सोशल मीडिया में कोरोना के खिलाफ  लोगो को जागरूक करने में जुटी - News Bindass

प्रियंका को राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया जा चुका है। बता दें कि प्रियंका के कार्य काफी सराहनीय है और उनके इन अच्छे कार्यों को देखते हुए साल 2011 में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के द्वारा प्रियंका को सेंसस सिल्वर मेडल प्राप्त हुआ था। प्रियंका को शानदार कार्य करने के लिए राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कार प्राप्त हो चुका है। हर महिला को प्रियंका से प्रेरणा से लेनी चाहिए। यह सभी के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत हैं।

Leave a Comment