आम इंसान की तरह नौकरी और बस में सफर करती हैं बड़ौदा की महारानी

 

भारत में शाही परिवार के लोहा जहां ठाठ बताए रहते हैं वहीं बड़ौदा की रानी राधिकाराजे गायकवाड़ शाही शन – शौकत से दूर वास्तविक जीवन जीती आईं हैं।

राधिकाराजे गायकवाड़ की कहानी

बचपन से ही शाही परिवार से ताल्लुक रखने वाली राधिकाराजे ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उनका जीवन शाही चमक धमक से दूर किसी साधारण व्यक्ति की तरह ही बीता है क्योंकि उनके पिता अपने परिवार में पहले ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने राजघराने की शन छोड़ आईएएस बने थे।

चमक-धमक से दूर सादगी में बीता जीवन, बड़ौदा की महारानी की दिलचस्प कहानी - Women  AajTak

राधिकाराजे बताती हैं कि भोपाल गैस त्रासदी जो 1984 में हुई थी, उस वक्त उनके पिता वहां के कमिश्नर थे और उनकी निडरता के साथ लोगों की मदद और अपनी ड्यूटी करते देख राधिकाराजे ने उनसे बहुत कुछ सीखा।

चमक-धमक से दूर सादगी में बीता जीवन, बड़ौदा की महारानी की दिलचस्प कहानी - Women  AajTak
उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद वह और उनका परिवार दिल्ली आ गया जहां वह अपनी मां के कहने पर डिटिसी बस से यात्रा करती थीं और उनकी मां की वजह से ही वह आत्मनिर्भर बन पाईं। वह ग्रेजुएशन के बाद खुद के नौकरियां ढूंढने लगी थीं और इंडियन एक्सप्रेस में तीन सालों तक एक लेखिका के रूप में काम किया।

चमक-धमक से दूर सादगी में बीता जीवन, बड़ौदा की महारानी की दिलचस्प कहानी - Women  AajTak

बड़ौदा के राजकुमार सरमजीत का रिश्ता राधिकाराजे के लिए आया और दोनों शादी के बंधन में बंध गए। वह बताती है कि बड़ौदा के लक्ष्मी विलास महल में आने के बाद उन्हें अपने अस्तित्व के बारे में पता चला और वहां राजा रवि वर्मा की पेंटिंग देख उन्होंने बुनाई की पुरानी तकनीक को नया बनाने के बारे में सोचा और स्थानीय बुनकरों की मदद से एक प्रदर्शनी की। लॉकडाउन के वक्त वह और उनकी बहन ने सोशल मीडिया और लोगों की मदद से करीब 700 परिवारों को मदद की।

चमक-धमक से दूर सादगी में बीता जीवन, बड़ौदा की महारानी की दिलचस्प कहानी - Women  AajTak

2018 में उन्होंने राजघराने के विरासत और परम्पराओं के बारे में भी बताया था। उनके अनुसार गायकवाड़ वंश 19वीं सदी में ही कीमती चीजों के साथ इंटरनेशनल ज्वेलरी डीलर्स बन चुके थे। राधिका राजे ने राजघराने के खूबसूरत पारंपरिक हीरे जवाहरात के साथ 1867 के एक डायमंड के बारे में भी बताया जो कोहिनूर से भी बड़ा है।

Leave a Comment